शहर में झमाझम पड़े वोट

शहर के पुराने मुस्लिम बाहुल्य इलाके में बूथों पर मतदाताओं की लंबी लाइनें नजर आई। इसके अलावा केडीईएम और जीआईसी इंटर कालेजों के नगर निगम वाले बूथों पर भी झमाझम वोट बरसे। दोपहर बाद तक करीब पचास फीसदी वोट पड़नें की खबर आ रही थी।

vote

रामपुर बाग और राजेंद्ग नगर में सपा प्रत्याशी डा. आईएस तोमर को भी खूब वोट पड़े

सुबह ही बैठ गया बसपा का हाथी,  लोगों को पूरी उम्मीद थी कि बसपा से खड़े प्रमुख मुस्लिम प्रत्याशी मोहम्मद यूनुस के एक तरफा वोट पड़ेंगे मगर एन वक्त पर मुसलमानों नें हाथी की सवारी छोड़कर साइकिल पर बैठना ही ठीक समझा और सपा को ही ज्यादातर मुसलमानों ने वोट दिया। सैलानी, सूफी टोला, रबड़ी टोला, सहसवानी टोला, एजाजनगर गौंटिया, बुखारपूरा, काजी टोला जैसे मुस्लिम बाहुल्य इलाकों में जमकर वोटिंग हुई है जबकि हिन्दू बाहुल्य इलाकों में सुस्ती नजर आई।

सीधी टक्कर सपा और भाजपा के बीच
बरेली महानगर में मेयर सीट के लिए सीधी फाइट सपा से चुनाव लड़ रहे पूर्व मेयर डा. आईएस तोमर और भाजपा से पहली बार मैदान में उतरे डा. उमेश गौतम के बीच ही नजर आई। राजनीति के पंडितों का कहना है कि अगर मुस्लिम इलाकों में जमकर वोटिंग हुई और हिन्दू बाहुल्य इलाकों में वोटों का बंटवारा होकर सपा को भी वोट मिला है तो डा. आईएस तोमर को तीसरी बार भी मेयर बनने से कोई रोक नहीं सकेगी। सपा का पलड़ा भारी नजर आ रहा है। हालांकि पहली दिसंबर को सब कुछ साफ हो ही जाएगा।

शहर में पसरा रहा सन्नाटा
मतदान के दौरान सिविल लाइन, चौपुला चौराहा, कुतुबखाना चौराहा, शहामतगंज आदि इलाकों में जहाँ जाम की स्थिति रहती थी वहां सन्नाटा पसरा नजर आया। सड़कें सपाट नजर आ रही थीं। देर शाम करीब सात बजे तक पोलिंग पार्टियों ने ईवीएम मशीनें जमा की। उधर मतदान के बाद प्रत्याशियों और उनके समर्थकों ने भी राहत की सांस ली। अलबत्ता सपा और भाजपा के प्रत्याशी और उनके करीबी वोटों का गणित लगाते नजर आए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *