मोदी गुजरात प्रचार की कमान ना संभालते तो भाजपा चुनाव हार जाती

babulal-gaur@

वरिष्ठ भाजपा नेता और मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर ने एक बार फिर महक्वपूर्ण बयान दिया है। गौर ने कहा कि यदि समय रहते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुजरात प्रचार की कमान ना संभालते तो भाजपा चुनाव हार जाती। पूर्व मुख्यमंत्री का कहना है कि जिस तरह का माहौल इस बार गुजरात चुनाव में देखने को मिला इससे पहले इस तरह का माहौल वहां पर कभी भी नहीं रहा था। भाजपा की 5 बार सरकार बन चुकी थी और उस समय गुजरात की कमान नरेंद्र मोदी के हाथ में हुआ करती थी। छठवीं बार गुजरात चुनाव में सरकार के खिलाफ एंटी इनकंबेंसी का माहौल रहा। उन्होंने कहा कि गुजरात में पटेल समाज ने आरक्षण की मांग शुरु कर दी।
साथ ही पाटीदार समाज ने भी एकजुट होकर सरकार के खिलाफ माहौल बनाया। इन लोगों ने सोचा कि मोदी जी तो अब गुजरात में आएंगे नहीं इसलिए उन्होंने कांग्रेस को सपोर्ट कर सरकार बनाने की रणनीति तैयार की। गौर के अनुसार यदि नरेंद्र मोदी चुनाव के आखिर में 10-12 दिन गुजरात में प्रचार की कमान नहीं संभालते तो गुजरात में भारतीय जनता पार्टी की सरकार नहीं बनती। ज्ञात रहे यहभी एक ऐतिहासिक तथ्य है कि किसी पीए को अपने ही गृह राज्य में इतनी ज्यादा मेहनत करना पड़ी। गौर न
पूर्व मुख्यमंत्री गौर का यहभी कहना है कि गुजरात में भारतीय जनता पार्टी का वोट ही नहीं बढ़ पाता, क्योंकि गुजरात के ग्रामीण क्षेत्रों में भाजपा सरकार को समर्थन नहीं मिल रहा था लेकिन शहरों में समर्थन प्राप्त हो रहा था। यह समर्थन नरेंद्र मोदी की ईमानदारी और व्यक्तित्व के कारण मिल रहा था और यह जीत नरेंद्र मोदी जी के खाते में जाएगी।
गौर ने कहा कि जातिवाद की वजह से पाटीदार समाज के लोग अलग हो गए अनुसूचित जाति के लोग अलग हो गए ग्रामीण क्षेत्र के लोग अलग हो गए। उन्होंने कहा कि जीएसटी और नोटबंदी का मामला भी एक मुद्दा था। यह सभी मामले एक साथ हमारी सरकार के विरोध में खड़े हो गए। गुजरात का व्यापारी, मजदूर और किसान भी सरकार के खिलाफ हो गया लेकिन ऐसे समय पर नैया को पार लगाना केवल नरेंद्र मोदी के हाथ में था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *