एयरटेल के फर्जीवाड़े के शिकार कहीं आप भी तो नहीं

इस बार तो एयरटेल ने हद ही कर दी। उसने बिना बताये कई लोगों का चोरी से खाता खोल डाला। क्या है पूरा मामला आइये समझते हैं।

airtel11001

भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (यूआईडीएआई) ने आधार ऐक्ट के कथित उल्लंघन के मामले में भारती एयरटेल के खिलाफ जांच का आदेश दिया है। आरोप है कि ग्राहकों ने मोबाइल नंबर का आधार वेरिफिकेशन कराया, उसी दौरान कंपनी ने ग्राहकों के एयरटेल पेमेंट्स बैंक में चुपके से खाते खोल दिए। यूआईडीएआई भारती एयरटेल पर जुर्माना लगाने की धमकी दे रहा है। सूत्रों ने शिकायत सही पाए जाने के बाद कंपनी के खिलाफ जांच का आदेश दे दिया गया।

पहचान गुप्त रखने की शर्त पर एक सूत्र ने बताया, ‘ये गड़बड़ियां बेहद गंभीर प्रकृति की हैं। पहली नजर में यह विश्वास और अनुबंध का आपराधिक उल्लंघन है। साथ ही, आधार ऐक्ट के प्रावधानों का भी उल्लंघन हुआ है।’ भारती एयरटेल की चालबाजी तब पकड़ी गई जब एयरटेल के कुछ ग्राहकों की एलपीजी सब्सिडी की रकम उनकी ओर से निर्धारित बैंकों के बचत खातों की जगह एयरटेल पेमेंट्स में जमा होने लगी।

ऐसे ज्यादातर ग्राहकों ने सब्सिडी की रकम यूं ट्रांसफर होने की शिकायत की और कहा कि उन्हें एयरटेल पेमेंट्स बैंक अकाउंट्स की कोई जानकारी नहीं है। उनका कहना है कि उन्होंने एयरटेल पेमेंट्स बैंक में अपने खाते खोलने की अनुमति नहीं दी थी और उन्हें बिना बताए खाते खोल दिए गए। केंद्र सरकार की प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण (डीबीटी) योजना के तहत करीब 40 करोड़ रुपये सब्सिडी के रूप में सीधे ग्राहकों के खाते में जमा होते हैं। लेकिन शिकायत की सूचना मिलने के बाद यूआईडीएआई ने पहले एयरटेल को शोकाउज नोटिस जारी किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *